Bhagwan Aur Khuda | Manoj Bajpayee | Lijo George

Bhagwan Aur Khuda Lyrics, a poem that talks about united India and lets all pledge to keep India safe. The poem is written by Milap Milan Zaveri, the music is by Lijo George and Poem Narrated by Manoj Bajpayee.

टाइटल : Bhagwan Aur Khuda
रिटेन & कॉन्सिवेद : Milap Milan Zaveri
म्यूजिक : Lijo George
पोएम नर्राटेड : Manoj Bajpayee
म्यूजिक सुपरवाइजर : Azeem Dayani
साउंड डिज़ाइन & मिक्स : Kunal & Parikshit – Creative Sounds
एडिटेड : Maahir Zaveri & Sagar Manik
स्टेरिंग : Manoj Bajpayee

Bhagwan Aur Khuda Lyrics in Hindi

भगवान और खुदा
आपस में बात कर रहे थे
मंदिर और मस्जिद के बिच
चौराहे पर मुलाक़ात कर रहे थे

के हाथ जोड़े हो या दुआ में उठे
कोई फर्क नहीं पड़ता है
कोई मंत्र पढता है
तोह कोई नमाज़ पढता है

इंसान को क्यों नहीं आती शर्म है
जब वह बन्दूक दिखा कर पूछता है
की क्या तेरा धरम है

उस बन्दूक से निकली गोली
न ईद देखती है न होली
सड़क पे बस सजती है
बेगुनाह खून की होली

भगवान और खुदा
आपस में बात कर रहे थे
मंदिर और मस्जिद के बिच
चौराहे पर मुलाक़ात कर रहे थे

सब को हम दोनों ने इसी मिटटी से बनाया
कोई जन्मा अम्मी की कोख से
तो कोई माँ के गोद में रोता आया
कौन है वह कम्बख्त
जिसने नफरत का पाठ पढ़ाया

किसी अकबर को कहा माँ को मार
और अमर के हाथो अम्मी को मरवाया

ममता का गला घोटने वाले बेवकूफों को
कोई समझाओ मज़हब की इस जंग में
तुमने इंसानियत को दफनाया

भगवान और खुदा
आपस में बात कर रहे थे
मंदिर और मस्जिद के बिच
चौराहे पर मुलाक़ात कर रहे थे

Bhagwan Aur Khuda
Aapas Mein Baat Kar Rahe The
Mandir Aur Masjid Ke Bich
Chaurahe Par Mulaqaat Kar Rahe The

Ke Haath Jode Ho Ya Dua Mein Uthe
Koyi Fark Nahi Padta Hai
Koyi Mantra Padhta Hai
Toh Koyi Namaaz Padhta Hai

Insaan Ko Kyun Nahi Aati Sharam Hai
Jab Woh Bandook Dikha Kar Poochhta Hai
Ki Kya Tera Dharam Hai

Uss Bandook Se Nikli Goli
Na Eid Dekhti Hai Na Holi
Sadak Pe Bas Sajti Hai
Begunah Khoon Ki Holi

Bhagwan Aur Khuda
Aapas Mein Baat Kar Rahe The
Mandir Aur Masjid Ke Bich
Chaurahe Par Mulaqaat Kar Rahe थे
Sab Ko Hum Dono Ne Issi Mitti Se Banaya
Koi Janma Ammy Ki Kokh Se
To Koyi Maa Ke God Mein Rota Aaya
Kon Hai Woh Kambakht
Jisne Nafrat Ka Paath Padhaya

Kisi Akbar Ko Kaha Maa Ko Maar
Aur Amar Ko Haatho Ammi Ko Marwaya

Mamta Ka Gala Goth Ne Wale Bewkoofon Ko
Koi Samjhaao Mazhub Ki Is Jang Mein
Tumne Insaniyat Ko Dafnaya

Bhagwan Aur Khuda
Aapas Mein Baat Kar Rahe The
Mandir Aur Masjid Ke Bich
Chaurahe Par Mulaqaat Kar Rahe The

Leave a Comment