ए सुबह तू जा फलक से
लौट जा ज़रा
रात थम के कर रही है
हमसे मशवरा

ए सुबह तू जा फलक से
लौट जा ज़रा
रात थम के कर रही है
हमसे मशवरा

बादलों से कहदो जा के
मैं फ़ना हुवा
बिन बताये बिन रिझाए
बस तेरा हुआ

महफ़ूज़ है मेरी बाहों में
अब से तू सदा
मैं चल पड़ूँ तेरी राहों में
अब से यूँ सदा

महफ़ूज़ है मेरी बाहों में
अब से तू सदा
मैं चल पड़ूँ तेरी राहों में
अब से यूँ सदा

ए शिकायत अब ज़रूरत ना रही तेरी
ए नसीहत फिर मिलेंगे है दुआ मेरी
अब फ़ासाना अब ठिकाना तू मेरा हुआ
ज़िंदगी का हर बहाना तू मेरा हुवा

महफ़ूज़ है मेरी बाहों में
अब से तू सदा
मैं चल पड़ूँ तेरी राहों में
अब से यूँ सदा

महफ़ूज़ है मेरी बाहों में
अब से तू सदा
मैं चल पड़ूँ तेरी राहों में
अब से यूँ सदा

Aye subah tu ja falak se
Laut ja zara
Raat tham ke kar rahi hai
Humse mashwara

Aye subah tu ja falak se
Laut ja zara
Raat tham ke kar rahi hai
Humse mashwara

Baadalon se kehdo jaa ke
Main fanaa hua
Bin bataaye, bin rijhaaye
Bas tera hua..

Mehfooz hai meri baahon mein
Ab se tu sadaa
Main chal padun teri raahon mein
Ab se yun sadaa

Mehfooz hai meri baahon mein
Ab se tu sadaa
Main chal padun teri raahon mein
Ab se yun sadaa..

Aye shiqaayat ab zaroorat naa rahi teri
Aye nasihat phir milenge, hai dua meri
Ab fasaana, Ab thikaana, tu mera huaa
Zindagi ka har bahaana, tu mera huaa

Mehfooz hai meri baahon mein
Ab se tu sadaa
Main chal padun teri raahon mein
Ab se yun sadaa
Mehfooz hai meri baahon mein
Ab se tu.. sadaa
Main chal padun teri raahon mein
Ab se yun sadaa..